दौलत के 30 सिद्धांत – Morning Motivation

SECRETS OF THE MILLIONAIRE MIND टी हार्व एकर की किताब से चुनिन्दा सिद्धांत जो आपको दौलतमंद बनने में मदद करेंगी ।

Image Credit : https://pixabay.com

आपकी आमदनी सिर्फ उसी हद तक बढ़ सकती है, जिस हद तक आप बढ़ते हैं !

अगर आप फलों को बदलना चाहते हैं, तो पहले आपको जड़ों को बदलना होगा । अगर आप दिखाई देने वाली चीजों को बदलना चाहते हैं, तो उसके पहले आपको अदृश्य चीजों को बदलना होगा ।

धन परिणाम है, दौलत परिणाम है, सेहत परिणाम है, बीमारी परिणाम है, आपका मोटापा परिणाम है । हम कारण और परिणाम की दुनिया में रहते हैं ।

विचार भावनाओं तक ले जाते हैं । भावनाएँ कार्यों तक ले जाती हैं । कार्य परिणामों तक ले जाते हैं ।

जब अवचेतन मस्तिष्क को गहरी भावनाओं और तर्क में से किसी एक को चुनना होता है, तो भावनाएँ लगभग हमेशा जीतेंगी ।

अगर धन या सफलता की प्रेरणा की जड़ नकारात्मक है, जैसे डर, गुस्सा या खुद को “साबित” करने की जरूरत, तो पैसा आपको कभी सुखी नहीं बना सकता ।

कमरे के तापमान को स्थायी रूप से बदलने का इकलौता तरीका थर्मोस्टेट को दोबारा निर्धारित करना है । इसी तरह, अपनी वित्तीय सफलता के स्तर को “स्थायी रूप से ” बदलने का एकमात्र तरीका अपने वित्तीय थर्मास्टेट यानी अपने धन के ब्लूप्रिंट को दोबारा निर्धारित करना है ।

चेतना आपके विचारों और कार्यों का निरिक्षण करती रहती है, ताकि आप अतीत की प्रोग्रामिंग के बजाय वर्तमान पल में सही चुनाव करके जीयें ।

याद रखें बाधक तरीकों से सोचने के बजाय आप ख़ुशी और सफलता बढ़ाने वाले तरीकों से सोचने का चुनाव कर सकते हैं ।

पैसा उन क्षेत्रों में बेहद महत्वपूर्ण है, जिनमें यह काम करता है और उन क्षेत्रों में बहुत महत्वहीन है, जिनमें यह काम नहीं करता है ।

जब आप आदतन शिकायत करते रहते हैं तो आप जीते-जागते कष्ट आकर्षक करने वाले चुम्बक बन जाते हैं ।

अमीर लोग पैसे का खेल जीतने के लिए खेलते हैं, गरीब लोग पैसे का खेल हार से बचने के लिए खेलते हैं ।

अगर आपका लक्ष्य आरामदेह बनना है, तो इस बात की संभावना है कि आप कभी अमीर नहीं बन पायेंगे । लेकिन अगर आपका लक्ष्य अमीर बनना है, तो इस बात की संभावना है कि आप बहुत आरामदेह तो बन ही जायेंगे ।

ज्यादातर लोगों को अपनी मनचाही चीज इस प्रमुख कारण से नहीं मिलती है, क्योंकि उन्हें पता ही नहीं होता कि वे क्या चाहते हैं ।

अगर आप दौलतमंद बनने के लिए पूरी तरह और सचमुच समर्पित नहीं हैं तो संभावना है कि आप बन भी नहीं पायेंगे ।

अमीर लोग बड़ा सोचते हैं, गरीब लोग छोटा सोचते हैं ।

आमदनी का नियम : आप बाजार के अनुसार जो मूल्य देते हैं आपको उसी के अनुपात में भुगतान मिलेगा ।

सफलता का रहस्य समस्याओं से बचने या उनसे पीछा छुड़ाने या उनसे कतराने की कोशिश करना नहीं है ; रहस्य तो खुद को इतना बड़ा बनाना है कि आप किसी भी समस्या से ज्यादा बड़े बन जाएँ ।

अगर आपके जीवन में कोई बड़ी समस्या है , तो इसका मतलब सिर्फ यही है कि आप अब तक छोटे हैं !

अगर आप कहते हैं कि आप काबिल हैं , तो आप हैं । अगर आप कहते हैं कि आप काबिल नहीं है, तो आप नहीं हैं । दोनों ही तरह से आप अपनी लिखी कहानी के अनुसार जीवन जिएँगे ।

हर देने वाले के साथ एक पाने वाला भी होना चाहिए और हर पाने वाले के साथ एक देने वाला भी होना चाहिए ।

पैसा आपको सिर्फ वही ज्यादा बनाएगा, जो आप पहले से हैं ।

अमीर लोग यकीन करते हैं , “आपके पास केक भी रहे और आप उसे खा भी सकें ।“ मध्यम वर्गीय लोग यकीन करते हैं, “केक से मोटापा बढ़ता है, इसलिए मैं इसका बस छोटा सा टुकड़ा ही लूँगा ।” गरीब लोग यकीन करते हैं कि वे केक के हक़दार नहीं हैं, इसलिए वे डबलरोटी का ऑर्डर देते हैं, उसके छिद्रों पर ध्यान केन्द्रित करते हैं और सोचते हैं कि क्यों उनके पास “कुछ भी नहीं” है ।

या तो आप पैसे को नियंत्रित करते हैं , या फिर यह आपको नियंत्रित कर लेगा ।

अमीर लोग हर डॉलर को एक “बीज” की तरह देखते हैं जिसे बोकर सैकड़ों डॉलर कमाए जा सकते हैं और जिन्हें दोबारा बोकर हजारों डॉलर कमाए जा सकते हैं ।

सच्चा योद्धा “डर के नाग को पालतू बना सकता है ।”

अगर आप सिर्फ आसान काम करने के इच्छुक हैं तो ज़िन्दगी मुश्किल होगी । लेकिन अगर आप मुश्किल काम करने के इच्छुक हैं तो ज़िन्दगी आसान होगी ।

आप दरअसल आरामदेह दायरे के बाहर रहकर ही अपना विकास कर सकते हैं ।

हर महारथी कभी असफल था ।

सबसे अच्छा भुगतान पाने के लिए आपको सबसे अच्छा बनना होगा ।

 

Self Help books में सीक्रेट्स ऑफ़ द मिलियेअर माइंड आपको बताएगी कि दौलत के खेल में आप कैसे चैम्पियन बन सकते हैं । आज ही इस बुक को पूरा पढ़ें जो लाइफ चेंज करने में आपकी हेल्प करेगा ।

Leave a Comment