ये 10 पॉइंट खोलेंगी सफलता का द्वार – Part 2

दोस्तों, आज से 5 साल पहले 2013 में मैंने 3-4 पेज का एक आर्टिकल लिखा था । जिसकी सैकड़ों कॉपी मैंने फ्री में जगह-जगह बाँटी थी । तब मैंने यह साईट लॉन्च नहीं की थी, इस वजह से मैं उसे अपने साईट पर पब्लिश नहीं कर पाया । हमने इसके Part – 1 में सफलता का द्वार खोलने वाली 5 पॉइंट्स के बारे में लिखा था और आइये इस पोस्ट में हम बाकी के 5 पॉइंट्स के बारे में जानते हैं जो हमें सफल होने में मदद करेंगी…

6.

वादा और आदत जिंदगी के प्रत्येक पहलू में प्रयोग होने वाले एसे शब्द हैं जो आपको इतना

काबिल बनायेंगे कि कामयाबी आपके हाथ थामेगी, कैसे ? देखिए –

वादा –हम दूसरों से और अपने आपसे बहुत सारे वादे करते है Example – मैं आज सुबह 5.00 बजे  उठूँगा और पढूंगा लेकिन…..

आदत –वादा को पूरा करने के लिए आदत तो बनानी ही पड़ेगी नहीं तो हमेशा ‘लेकिन’ नाम का शब्द आपकी सफलता में बाधक सिद्ध होगा इसलिए लेकिन नाम का शब्द को यदि अपने डिक्शनरी से बाहर निकालना है तो अच्छी आदतें बनाओ और जो आपकी सफलता में बाधक है उन बुरी आदतों को आज ही छोड़ो क्योंकि आज नहीं तो कल भी नहीं । अपने आपसे वादा करो कि तुम्हे सफल होना है अपने आपसे वादा करो कि आज से अभी से तुम अपनी बुरी आदते छोड़ोगे और अच्छी आदतों को अपनी लाइफ में अप्लाई करोगे ।

आज सबके मुँह से एक बात सुनने को मिलती है कि ‘वादा तो वादा है ‘ लेकिन व्यक्ति अपने द्वारा किये हुए वादे पर खरा उतरे तो वह अवश्य सफलता को प्राप्त करेगा । हम जानते है कि आदत एक दिन मै बनाई या छोड़ी नहीं जाती लेकिन ……….

7.

कोशिश और सफलता –एक दिन कोशिश ने आत्मविश्वास से कहा कि मैं तुमसे बहुत ज्यादा श्रेष्ठ हूँ , आत्मविश्वास ने मुस्कराते हुए बोला –हाँ तुम मुझसे बहुत ही ज्यादा श्रेष्ठ हो क्योंकि  यदि तुम न होते  तो शायद ही मै होता !!! कहने का सीधा मतलब यह है कि आप सफलता पाने के लिए एक बार कोशिश करना तो शुरु कीजिये , कोशिश करते जाओगे आत्मविश्वास पैदा होते जाएगा, आत्मविश्वास बढ़ते जाएगा. सफलता के नजदीक पहुँचते जाओगे ।

हमारी कोशिश ही हमें एक दिन सफलता तक पहुंचाती है, हमारी अच्छी आदतों को बनाने और बुरी आदतों को छुड़वाने में कोशिश का ही हाथ होता है ।

इसलिए मेरी इन बातों को हमेशा याद रखिये,

जीतना है…. तो कोशिश करना है….

आदतों को सुधारना है…… तो कोशिश करना है….

आत्मविश्वास को जगाना है… तो कोशिश करना है….

इतना सब जानते हो तो…. क्या करना है…..?

8.

चिंता और चिंतन – हमारी चिंता हमारे तनाव का कारण बनती है । यदि किसी बात को सोच-सोच कर हम चिंता करते रहेंगे तो हमारी हालत एक मुर्दे की भांति हो जाएगी । लेकिन यदि आपको चिंता से बचना है, अपने तनाव को कम करना है, तो चिंतन कीजिए । यदि आप मनन चिंतन करेंगे तो आपको उस समस्या का हल जरूर मिलेगा, जिसको सोचकर आप चिंतित हैं । इसलिए कितनी भी बड़ी परेशानी हो, कितनी भी बड़ी चिंता हो, हँसते-मुस्कुराते हुए मन को शांत रखकर चिन्तन कीजिए ।

चिंता आपसे कोशों दूर रहेगी ।

9.

प्रेरणा सफलता का द्वार – हमारी प्रेरणा, हमारी सफलता तक पहुँचने का बहुत बड़ा मार्ग है । आज आप बहुत सारी Inspirational बातें, कहानियां पढ़ते-सुनते हैं तो आपके अन्दर एक नया उत्साह पैदा हो जाता है लेकिन कब तक के लिए, जब तक कि वो प्रेरणा आपके मन में रहती है तब तक के लिए ही।

इसलिए जरूरी है कि आप रोज अपने आपको और दूसरों को प्रेरित करें और दूसरों से सफलता प्राप्ति के लिए प्रेरणा लें ।

रोज ऐसी बातें पढ़ें, ऐसी कहानियां पढ़ें जो आपके अन्दर एक नया उत्साह पैदा करे । आप गलत कर रहे हों तो वो बातें आपको डाटें, बार-बार आपको एहसास दिलाये कि आप क्या कर रहे हैं और क्या कर सकते हैं । इसलिए रोज अपने आपको प्रेरित करें । रोज प्रेरणादायक बात पढ़ें । उनसे सीखें, उन बातों को जीवन में अमल करें । धीरे-धीरे आप सफलता के मार्ग में आने वाली मुश्किलों के लिए एक बहुत बड़ा जाल बुन चुके होंगे । जो सिर्फ हमारी प्रेरणा के द्वारा ही हो सकता है ।

 

10.

बहाना बर्बादी है, बर्बादी बहाना है – आज Competition का ज़माना है, Life में हर कोई अपने असली मुकाम तक पहुंचना चाहता है । लेकिन ये दो शब्द हमें अपने लक्ष्य तक पहुँचने नहीं देते ।

वे हर कदम पर हमें जीतने नहीं, बल्कि हारने का अवसर देते हैं ।

बहाना हमें बर्बाद कर देता है और बर्बादी हमें बहाने का रास्ता लेने को मजबूर कर देती है ।

कैसे देखिये,

बहाना बर्बादी है – बहाने बनाने के तरीकों से आप सब वाकिफ होंगे । एक व्यक्ति, दुसरे व्यक्ति से आज कहता है कि इस काम को थोडा कर देंगे क्या? लेकिन दुसरे व्यक्ति का जवाब होता है कि मेरे पास अभी समय नहीं है और मैं बहुत ही ज्यादा busy हूँ ।

शायद आप भी ऐसा बोलते होंगे ! लेकिन क्या आपने कभी सोचा कि “बहाना बनाना” एक दिन आपकी आदत बन जाएगी । जिससे पछताने के अलावा आपके हाथ कुछ भी नहीं लगेगा ।

बहुत व्यक्तियों का कहना होता है कि हम बड़ी परीक्षाओं, बड़े लक्ष्य को पाने की तैयारी कर रहे हैं लेकिन वे परीक्षाओं की आड़ में अपने आपसे बहाने बनाते हैं । आप ये बात जान लीजिये कि बहाना आपके समय को बर्बाद कर देगा । आपके भविष्य को बर्बाद कर देगा ।

इसीलिए बहाना बनाना छोड़िये और बर्बादी से नाता तोडिये ।

 

बर्बादी बहाना है – कई व्यक्ति बहानों के कारण ही बर्बाद होता है । लेकिन बर्बाद होने के बाद भी बहाने क्यों बनाता है ? तात्पर्य यह है कि आपकी बर्बादी के लिए आप स्वयं ही जिम्मेदार होते हैं । दूसरों पर गलती उछालने से पहले एक बार सोच लेवें इसलिए दूसरों पर बहाने के माध्यम से गलती थोंपना बंद कीजिए । बहाना बनाना बंद कीजिये । अपनी जिम्मेदारी और कर्तव्य को समझिये । अपने लक्ष्य पर ध्यान देते हुए खुद पर विश्वास करके आगे बढ़िये, कामयाबी जरूर मिलेगी ।

——————————————————————————————–

कुछ विशेष पलों में हम अपने ख़ास लोगों को Gift देते हैं लेकिन साथ में आप उन्हें कुछ अच्छी बातें भी लिखकर दें जो उनके जीवन को बेहतर बनाने में काम आये…

जैसे आप लिख सकते हैं :

  • जीवन में हमेशा अच्छा सोचना ।
  • हमेशा समय का सदुपयोग करना ।
  • सफलता पाने के लिए हमेशा कोशिश करना ।
  • हमेशा सही रास्ते पर चलना ।
  • किसी को भी कठोर वचन मत बोलना ।
  • अपने से बड़ों का हमेशा सम्मान करना ।
  • दूसरों के दुःख को ख़ुशी में बदल देना ।
  • किसी के साथ विश्वासघात मत करना ।
  • किसी से क्रोध मत करना ।

ये बातें सिर्फ पढ़ने और सुनने के लिए नहीं है बल्कि असल ज़िन्दगी में उतारने के लिए है । यदि हम हमारी ज़िन्दगी को कोरे किताब से तुलना करके देखें तो –

यदि हम कोरे किताब पर कुछ न लिखें और उसे ऐसे ही एक मेज पर रख दें तो वह जैसी की तैसी ही मेज पर पड़ी रहेगी । लेकिन हमारी ज़िन्दगी के प्रत्येक पन्ने को रोज समय द्वारा पलटा जा रहा है । अब चुनाव हमारे स्वयं के ऊपर है कि हमारी ज़िन्दगी के प्रत्येक कीमती पलों में हम कैसी यादें भरें जिससे हमारी किताब बेहतर ढंग से पेश हो मतलब हमारी ज़िन्दगी बहुत खुशनसीब और कामयाब हो ।

उसने कितना तैयारी किया है इस बात को सोचकर मन में डर की भावना या मन को निराश कभी मत करना । बल्कि तुमने कितनी तैयारी की है और तुम्हें कितना तैयारी करना बाकी है सिर्फ यही देखना ।

तैयारी शुरू करने के लिए किसी शुभ मुहूर्त की आवश्यकता नहीं होती इसलिए अपने लक्ष्य को अपने सामने रखो और आज से, अभी से तैयारी शुरू करो ।

तैयारी करते जाओगे, उत्साह बढ़ते जाएगा । दिमाग में बिना बोझ लिए तैयारी करते जाओ..

तुम्हारा उत्साह, तुम्हारा आत्मविश्वास और तुम्हारी तैयारी कभी खाली नहीं जाएगी ।

 

हम ये क्यों नहीं सोचते कि.. हमें हर बार जीतना है ।

बल्कि ये क्यों सोचते हैं कि हमें जीतना है… । ।

किरण साहू

 

लेखक को सबसे ज्यादा ख़ुशी उस दिन होगी जब आप इसके लिए एक-एक बातों पर गौर कर अपनी लाइफ में प्रैक्टिकल रूप से अमल करेंगे…

ये 10 पॉइंट खोलेंगी सफलता का द्वार – Part 1

धन्यवाद 🙂

Leave a Comment