Motivation Vs Inspiration in Hindi

Motivation Vs Inspiration in Hindi

Motivation और Inspiration एक ही सिक्के के दो अलग-अलग पहलु हैं । हम लोगों की लाइफ में सब कुछ सही चल रहा होता है और अचानक जब हमारे साथ कुछ बुरा होने लगता है तो हम दुखी हो जाते हैं और शिकायत की एक लम्बी लिस्ट लिए अपनी लाइफ को कोसने लगते हैं । उस समय हमें एक प्रेरणा की जरूरत होती ताकि हम अपनी लाइफ को फिर से बेहतर बना सकें । जिसके लिए हम कुछ Videos देखते हैं, बुक्स पढ़ते हैं या कहीं से कुछ भी ऐसा मिले जो हमें प्रेरित करे उसके लिए Motivation की तलाश करते हैं । जब हमें कहीं से मोटिवेशन मिलता है तो हम खुद को चार्ज्डअप महसूस करने लगते हैं । लेकिन मोटिवेशन खुद को चार्ज्डअप करने का एक Temporary Solution है जबकि Inspiration Permanent… जब आप कोई अच्छी मूवी देखते हैं, या कोई विडियो देखते हैं और वो देखने के बाद आपकी निराशा गायब हो जाती है, आप अच्छा महसूस करने लगते हैं तो उसे हम सब मोटिवेशन बोलते हैं। Inspiration इससे थोड़ा अलग है । आपकी लाइफ में बड़ी से बड़ी प्रॉब्लम है, आप बहुत बुरा महसूस कर रहे हैं लेकिन इसके बावजूद आप रुक नहीं रहे, आगे बढ़ते ही चले जा रहे हैं । आप वो काम कीजिये जिसमें आपको मजा आता है फिर उस काम को करने के लिए आपको किसी तरह के मोटिवेशन की जरूरत नहीं । आप जिस भी काम को कर रहे हैं, उस काम के बारे में आपकी सोच जितनी गहरी होती चली जाती है उतना ही आप खुद को Inspire महसूस करने लगते हैं । आप अपनी बुद्धिमत्ता को स्ट्रोंग बनाते जाएं, आप जहाँ से भी कुछ देखें, पढ़ें या सुनें उसे मोटिवेशन लेने के उद्देश्य से न लें बल्कि अपनी लाइफ को आप और भी बेहतर कैसे बना सकते हैं यही देखें । जब आप खुद को मोटिवेट करने के लिए कुछ देखते हैं तो वह थोड़ी देर के लिए तो आपको प्रेरित कर सकता है लेकिन जल्दी ही इससे आपका जोश ठंडा पड़ जाएगा । मोटिवेशन थोड़े टाइम के बाद ठंडा हो जाता है और आप फिर से अपनी Lazy Life में वापसी कर लेते हैं ।

 

खुद को Motivation का आदी न बनाएं कि आप अपनी हर प्रॉब्लम से से जूझने के लिए किसी Motivation Source जैसे ऑडियो/विडियो/आर्टिकल का सहारा लें । आपकी पूरी लाइफ ही आपकी सबसे बड़ी Inspiration है, अपनी जिंदगी को समझिये और खुद पर भरोसा रखिये । खुद को Inspire कीजिये और अपनी Inspiration खुद बनिए । जब आप कोई काम बहुत प्यार से करते हैं, आपका पूरा ध्यान उस काम पर होता है तब आप उसे अपनी Inspiration की वजह से कर रहे होते हैं लेकिन जब आप कोई काम बस ख़त्म करने के उद्देश्य से करते हैं तब वहां मोटिवेशन की जरूरत पड़ती है ।

Motivation और Inspiration में इतना ही फर्क है कि

Motivation क्षण भर के लिए है और Inspiration जिंदगी भर के लिए है ।

मोटिवेशन हमेशा किसी न किसी बाहरी स्रोत से हमें मिलता है जबकि Inspiration हमारे अन्दर से आती है । Motivation का उपयोग तब होता है जब हम किसी विशेष तरीके से काम करें और उसे तुरंत करें लेकिन Inspiration से हम कुछ बड़ा हासिल करना चाहते हैं, अपने भविष्य को अपने वर्तमान से बेहतर बनाना चाहते हैं ।

इसको Detail करने के लिए हम इसका दूसरा भाग जल्दी ही प्रकाशित करेंगे जिसमें हम बहुत सी जानकारियों पर प्रकाश डालेंगे ।

#MotivationQuestionHub

कृपया इस Short Article पर अपनी राय कमेन्ट के माध्यम से हम तक पहुंचाएं अथवा हमें hamarisafalta@gmail.com पर मेल करें ।

धन्यवाद 🙂

Leave a Comment