सफलता के मार्ग पर चलने के लिए 6 सबक

सफलता का मार्ग

सफलता पाना एक तरह से कोई सब्जी बनाने की तरह है। यदि हमें बैंगन का भर्ता भी बनाना है तो उसके लिए हमारे पास कुछ जरूरी चीजें होनी चाहिए, हमारे पास बैंगन ही नहीं है और हम उसका भर्ता बनाना चाहेंगे तो वह कभी नहीं बन पाएगा। हमारे पास सारी सामग्री होनी चाहिए, हमें यह पता होना चाहिए कि उन सामग्रियों का कैसे इस्तेमाल करके एक अच्छी सब्जी बनाई जा सकती है। जिस प्रकार से एक अच्छी सब्जी बनाने के लिए अच्छी किस्म की सामग्री का होना जरूरी है और यह पता होना आवश्यक है कि उसे कैसे बनाया जाता है तभी उसका स्वाद आएगा, वैसे ही हमें सफलता हासिल करने के लिए या सफलता के मार्ग पर चलने के लिए कुछ ख़ास बातों की जानकारी होनी चाहिए जिससे हम भी सफल हो सकें। आइये देखते हैं इन्हें –

Image Credit : pixabay.com

अपनी और दूसरों की गलतियों से सीखें

कबीरदास जी ने कहा है, बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय, जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय। हम कभी भी खुद की गलतियों को नहीं देखते, खुद की बुराइयों को हमेशा नजरंदाज कर देते हैं, यदि हमें सफलता प्राप्त करनी है या सफलता के मार्ग पर चलना है तो अपने अन्दर की बुरी आदतों को ख़त्म करना होगा। हम सभी के अन्दर कुछ न कुछ कमी या नुख्स निकालते हैं, लेकिन खुद की गलतियों पर कभी ध्यान नहीं देते। सफलता के मार्ग पर चलने के लिए ये बहुत जरूरी है कि हम अपनी गलतियों को खोजें, उन्हें स्वीकार करें और उनसे सीखें ताकि हम अपने भविष्य के लिए खुद के बेहतर बना सकें।

इस दुनिया में बहुत सारे लोग फेल होते हैं, उनकी फेलियर से हमें सीखना चाहिए, वे क्या-क्या गलतियाँ करते हैं और आखिर में उन्हें किन कारणों से उन्हें सफलता नहीं मिलती! इसके बारे में हमें जानना होगा। दूसरों की गलतियों से सीखकर भी हम खुद को बेहतर बना सकते हैं। हर सफल व्यक्ति दूसरों की गलतियों से सीखता है और उनकी सफलताओं से प्रेरित होकर सफलता के मार्ग पर चलने की कोशिश करता है। इसलिए यदि आप भी सक्सेसफुल होना चाहते हैं तो इन बातों को अपनी लाइफ में अप्लाई करके जरूर देखें।

हमेशा दूर की सोचिये

दूर की सोचने से आप अपने काम को बेहतर ढंग से कर पाते हैं। काम शुरू करना आसान है, लेकिन यदि आपने ‘दूर की सोचकर’ कोई काम शुरू किया है तो आप उसे पहले दिन से ही बहुत अच्छे ढंग से करेंगे और आप उसे हर दिन बहुत अच्छे से करते जाएँगे, इसलिए सिर्फ अभी के बारे में मत सोचें, आगे की सोचें, दूर की सोचें… खुद को और अपने काम को बेहतर बनाते जाएँ, जो भी काम कर रहे हैं उसमें अपना 100 प्रतिशत दें.. जब आप दूर की सोचकर ऐसा करते हैं तो सफलता के मार्ग पर चलना आपके लिए आसान होते जाता है।

सच्चाई और ईमानदारी के साथ समझौता मत करें

किसी भी व्यक्ति के साथ घुमाफिराकर या किसी चीज का झांसा देकर कोई सौदा या बात न करें, अपने मन में जो भी बात है, साफ़ दिल से सीधे-सीधे बताएं। घुमा-फिराकर बात करने से आप अपने सच्चाई और ईमानदारी पर संदेह लगा रहे होते हैं। अपनी सच्चाई के साथ कभी भी समझौता मत करें, ईमानदारी से अपना काम करते जाएं इससे आप धीरे-धीरे ही सही, लेकिन सफलता के मार्ग पर आगे बढ़ते चले जाएँगे। बिना सच्चाई और ईमानदारी के भले ही आप जल्दी और तेजी से सफल हो जाएँ लेकिन उतनी ही जल्दी और तेजी से आप नीचे भी गिर जाएँगे और उसी जगह वापिस लौट आएँगे जहाँ से आपने शुरू किया था इसलिए बिना समझौता किए चलते जाएँ, यही सफलता का सही मार्ग होगा।

बोने और काटने का सिद्धांत

बिना कुछ दिए आप कभी भी कुछ पा नहीं सकते। बबूल का बीज बोकर आप उसमें आम के पेड़ की उम्मीद नहीं सकते! यदि आपको आम खाने हैं तो आपको आम के बीज बोने होंगे। आप जैसा बोयेंगे वैसा ही काटेंगे। आप जितना बोयेंगे उतना काटेंगे। इसलिए सफलता हासिल करने के लिए जरूरी है कि हम कल्पनाओं की दुनिया में ही खोये मत रहें, बल्कि इस बात को भी समझें कि हम बिना कुछ दिए ही सफलता प्राप्ति की उम्मीद नहीं कर सकते। यदि हम बेहतर परिणाम की उम्मीद करते हैं तो सबसे पहले हमें बेहतर परिणाम लाने के लिए तैयारी करनी होगी। जिस काम में जितना ज्यादा अच्छा रिजल्ट चाहिए, हम काम में उतनी ज्यादा मेहनत हमें देना होगा। हम जितना ज्यादा देंगे उतना अधिक पाएँगे, इसलिए मेहनत करने में कामचोरी न करें, जो करना है और जो जरूरी है वो कर डालिए।

जैसा बनना चाहते हैं, वैसे लोगों के साथ रहें

यदि आप ऊँचें चरित्र वाले लोगों के साथ रहते हैं तब उनकी सोच से प्रभावित होकर आप भी उनकी तरह बन सकते हैं लेकिन यदि आप ऐसे लोगों के साथ रहते हैं जिनकी सोच बहुत पिछड़ी है, तब आपकी सोच भी धीरे-धीरे उनके जैसे ही हो जाएगी। आप जैसा बनना चाहते हैं, वैसी संगति में जाएं और उनके साथ से सफलता के मार्ग पर चलने की कोशिश करें।

अगर आप ख़ुद के मान-सम्मान को महत्व देते हैं, तब गुणवान लोगों की संगति में रहें। ख़राब लोगों की संगत में रहने से तो अच्छा है कि आप अकेले ही रहें।

-जॉर्ज वाशिंगटन…

 

अपनी खूबियों को जानिए और उन्हें निखारिये

जितनी भी खूबियाँ आपके अन्दर हैं, उन्हें जानने की कोशिश कीजिये। क्योंकि यही खूबियाँ आपकी सफलता की नींव को मजबूत करेंगी, इसलिए अपनी खूबियों को निखारिये। जब आप अपने मजबूत पहलुओं के बारे में जानने लगते हैं और उसे बेहतर बनाते जाते हैं तब आप प्रगति के शिखर पर आगे बढ़ रहे होते हैं और आपका विकास हो रहा होता है।

——————————-

कृपया इस लेख पर अपने विचार हमारे साथ कमेन्ट के माध्यम से साझा करें अथवा हमें hamarisafalta@gmail.com पर मेल करें।

धन्यवाद 🙂

 

 

Leave a Comment